शनिवार, 22 जनवरी 2011

×ôÕæ§Ü Ù¢ÕÚU ÂôÅðüUçÕçÜÅUè âéçߊææ Üæ»ê ãUôÙð ·ð¤ âæÍ ãUè »ýæãU·¤æð´ ·ð¤ ×Ù ×ð´ ·¤§ü âßæÜ ©UÆU ÚUãðU ãñ´UÐ Üô»ô´ ·¤æ ·¤ãUÙæ ãñU ç·¤ ßãU çÁâð ·¤æòÜ ·¤ÚU ÚUãðU ãñ´, ©U€Ì ÃØç€Ì ç·¤â ×ôÕæ§Ü âðßæ ÂýÎæÌæ ·¢¤ÂÙè ·ð¤ âæÍ ãñU, ØãU ÂÌæ ÙãUè´ ¿Üð»æÐ °ðâð ×ð´ Èý¤è â×Ûæ·¤ÚU ·¤æòÜ ·¤ÚUÙð ÂÚU ƒææÅUæ Ü» â·¤Ìæ ãñUÐ ãUæÜæ¢ç·¤ Üô»ô¢ ·¤æ ×æÙÙæ ãñU ç·¤ Ù° çâSÅU× âð ·¤ÂçÙØô´ ·¤è ×Ù×æÙè L¤·ð¤»è, Üðç·¤Ù ©UÜÛæÙð´ Öè ãñ´UÐ
Èý¤è ·¤æòÜ ·¤è ©UÜÛæÙ
¥Öè ·¤§üU ×ôÕæ§Ü ·¤¢ÂçÙØæ¢ ¥ÂÙð ÙðÅUß·ü¤ ÂÚU »ýæãU·¤æð´ ·¤æð Èý¤è ×ð´ ÕæÌ ·¤ÚUÙð ·¤è âéçßÏæ ¼ð ÚUãUè ãñUÐ ©UÎæãUÚU‡æ ·ð¤ ÌæñÚU ÂÚU çÚUÜæØ¢â S×æÅüU ·ð¤ ©UÂÖô€Ìæ wy~ L¤Â° ·ð¤ ßæ©U¿ÚU âð ÚUè¿æÁü ·¤ÚUÙð ÂÚU ç·¤âè Öè S×æÅüU Ù¢ÕÚU ÂÚU çÙàæéË·¤ ÕæÌ ·¤ÚU â·¤Ìð ãñ´UÐ Õè°â°Ù°Ü Ùð Ìô °âÅUèÇUè ÂÚU Öè ØãU âéçßÏæ ¼ð ÚU¹è ãñUÐ
Üðç·¤Ù ØçÎ ©UÂÖæð€Ìæ ç·¤âè ¥‹Ø (ÂãUÜð ¼ôÙô´ °·¤ ·´¤ÂÙè ·ð¤ »ýæãU·¤ Íð, Üðç·¤Ù °·¤ Ùð âðßæ Âý¼æÌæ ·´¤ÂÙè ÕÎÜ Üè ãUæð) ·ð¤ ȤôÙ ·¤ÚU Ü¢Õè ÕæÌ¿èÌ ·¤ÚUÌæ ãñU Ìô ©Uâð Öý× ãUô»æ ç·¤ ßãU °·¤ ãUè ÙðÅUß·ü¤ ÂÚU ÕæÌ ·¤ÚU ÚUãUæ ãñUÐ °ðâð ×ð´ ¥ÙÁæÙð ×ð´ ãUè ©UÂÖæð€Ìæ ·¤æð ’Øæ¼æ Âñâ𠹿ü ·¤ÚUÙð ãUæð´»ðÐ ØãU ©UÜÛæÙ ãUÚU ·´¤ÂÙè ·ð¤ âæÍ ¥æ â·¤Ìè ãñUÐ
ßãUè´, Ù´ÕÚU ÂæðÅðüUçÕçÜÅUè S·¤è× ·ð¤ ÌãUÌ °·¤ ÕæÚU ·´¤ÂÙè ÕÎÜÙð ÂÚU ÎéÕæÚUæ ÂéÚUæÙè ·´¤ÂÙè ×ð´ ÜæñÅUÙð ·ð¤ çÜ° ÌèÙ ×ãUèÙð §´UÌÁæÚU ·¤ÚUÙæ ãUæð»æÐ °ðâð ×ð´ ©UÂÖæð€Ìæ¥æð´ ·¤æð ·´¤ÂÙè ÕÎÜÙð âð ÂãUÜð âÌ·ü¤ ÚUãUÙæ ãUæð»æÐ

1 टिप्पणी:

  1. गोमिया विधानसभा उपचुनाव के अंतिम दिन विपक्ष की साझा झामुमो उम्मीदवार बबीता देवी ने नमांकन किया । नमांकन के समय पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, भुवनेश्वर मेहता, हाजी हुसैन अंसारी, अरूप चटजी, मन्नान मलिक, इजराइल अंसारी, जगरनाथ महतो, योगेंद्र महतो समेत विपक्षी दलों के पमुख नेता मौजूद थे।

    नमांकन करने पूर्व सथानीय चिलरेन पार्क में महती जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा की झारखंड लूट का एटीएम बन गया हैं, लूट के पैसा कर्नाटक के चुनाव को जीतने में खर्च किया जा रहा हैं, मुख्यमंत्री लास बेगास में जाकर निवेशक ढूंढते हैं जो की दुनिया का सबसे बड़ा जुआ का अड्डा हैं। उन्होंने कहा कि खाने को अनाज नही है, सरकार शौचालय बनबा रही है, मजाकिया लहजे में कहा कि वे खाएंगे तभी तो निकालेंगे। राज्य में अपहरण,बलात्कार की घटनाओं बढ रही है। उन्होंने कहा कि मोमेंट्म झारखंड में 800 करोड़ खाने में खर्ज किया गया। सरकार दोमुंहा सांप है जिसका एक मुंह कमल छाप है दूसरा केला छाप है। हेमंत सोरेन ने कहा की रघुवर दिल्ली का लठैत है तथा प्रवासी मुख्यमंत्री है। पारा शिक्षकों को अधिकार मांगने पर लाठी मिलता है।

    सभा को संबोधित करते हुए सुबोधकांत सहाय ने कहा कि संपूर्ण विपक्षी पाटी की एकजुटता की शुरुआत झारखंड से हुई है जो अगले लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार को उखाड़ फेकेंगा,साजिश के तहत विधायक की मेंबरी खत्म कर फंसाया जा रहा है। उन्हौंने कहा कि मोदी मदारी और रघुवर जमूरा है। सभा को गौतम सागर राणा, अरूप चटजी, हाजी हुसैन अंसारी, मननान मलिक समेत अनेक नेताओं ने संबोधित किया।

    संपूर्ण विपक्षी दल हुए एकजुट :
    हाल मे झारखंड में हुए नगर निगम तथा सथानीय निकायों के चुनाव में मिली शिरकत से सीख लेते हुए सभी विपक्षी दल एकजुट होने को मजबूर हो गए। नमांकन दाखिल के बहाने सभी विपक्षी पार्टियों ने एकजुटता का प्रदर्शन किया। पिछली बार योगेंद्र महतो को 97 हजार वोट मिले थे। आजसू के लंबोदर महतो के चुनाव में उतरने के बाद महतो वोटों का बिखराव तय है, लंबोदर महतो काफी समय से क्षेत्र में सकिय हैं। ऐसे मे विपक्षी दल की एकजुटता का लाभ कितना झामुमो को मिलेगा चुनाव के बाद पता चलेगा। सत्ता पक्ष के दिग्गजों का चुनाव प्रचार के बाद गोमिया का राजनीतिक तापमान और बढेगा जहां पर एशिया का सबसे बड़ा बारूद की फैकट्री है।

    उत्तर देंहटाएं